Photo Basics

Tag: what is ISO?

Tag: what is ISO?

lens-feature-image
Learn Photography

Exposure Triangle in Hindi | डिजिटल फोटोग्राफी में Exposure Triangle का इस्तेमाल किस तरह से होता है |

Exposure Triangle in Hindi | Digital Photography में Exposure Triangle का इस्तेमाल किस तरह से होता है |

Manual camera lens : Photo by Aaron Schwartz from Pexels
Manual Camera Lens : Photo by Aaron Schwartz from Pexels

अगर आप इस आर्टिकल पर यह ढूंढने आए हैं कि Exposure triangle क्या होता है तो उससे पहले आपको यह जानना जरूरी है कि एक्सपोजर किसे कहते हैं |

 एक्स्पोज़र का मतलब है की एक फोटो को बनाने के लिए कैमरा द्वारा कितनी लाइट कैप्चर की गई या कैमरा सेंसर ने एक फोटोग्राफ को बनाने के लिए कितनी लाइट को रिकॉर्ड कियाऔर एक सही एक्स्पोज़र को पाने के लिए एक्स्पोज़र ट्रायंगल की आवश्यकता होती है जिस पर हम इसी आर्टिकल में बाद में  सीखेंगे |

  एक इमेज तीन प्रकार से खींची जा सकती है |

1. अंडर  एक्सपोज्ड

2.  ओवर एक्सपोज्ड

3.  नॉरमल एक्सपोज्ड

इन तीनो एक्स्पोज़रस को समझने से पहले  एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज को जान लेना जरूरी है  जो की है आपका

टीटीएल मीटर  इसे “through the lens” मीटर भी कहते है |

टीटीएल मीटर सभी कैमरा में होता है | टीटीएल मीटर आपके लेंस द्वारा कैमरे के अंदर आई गई लाइट को  ना पता  है |  यह मीटर आपके कैमरा में कुछ इस तरह से दिखाई देता है |

through the lens meter reading
TTL Meter

आप अपने कैमरे को किसी भी सब्जेक्ट की तरफ लेकर जाएंगे तो यह मीटर आपको लेंस के द्वारा आई गई लाइट की रीडिंग देगा | इस मीटर में एक छोटा सा बिंदु चमकता है जो आपको बताता है की आपका एक्सपोज़र क्या है |

 यदि यह रीडिंग आपको जीरो से पीछे की तरफ दे रहा है तो आप की इमेज अंडरएक्सपोज्ड आएगी |

 यदि यह रीडिंग आपको जीरो से आगे की तरफ दे रहा है तो आप की इमेज और एक्सपोर्ट जाएगी |

 यदि है रीडिंग आपको हीरो के ऊपर दे रहा है तो आप की इमेज एकदम अच्छे से एक्सपोर्ट आएगी |

 टीटीएल मीटर को अच्छे से समझने के बाद अब हम बात करते हैं एक्स्पोज़र ट्राएंगल की |

 एक्स्पोज़र  ट्रायंगल  जैसे कि नाम से ही पता लग रहा है कि इसके 3 भाग होते हैं |

अपर्चर , ISO   और शटर स्पीड |

 यदि आप तीनों के बारे में जानते हैं तो आप इस आर्टिकल को आगे पढ़ सकते हैं |   यदि आपको नहीं पता कि अपर्चर , ISO   और शटर स्पीड क्या होता है तो  नीचे क्लिक करें |

मै Shutter Speed, ISO, Aperture सीखना चाहता हूँ |

ज्यादातर  फोटोग्राफर  हमेशा परफेक्ट एक्सपोजर या नार्मल एक्सपोजर ही  खींचते हैंलेकिन कुछ कुछ जगह पर फोटोग्राफी को रचनात्मक बनाने के लिए अंडर या ओवरएक्स्पोज़र भेज भी खींची जाती हैइसका पूरा का पूरा चयन फोटोग्राफर करता है की उसे किस तरह की तस्वीर खींचनी है |

ISO , शटर स्पीड और अपर्चर  तीनों के सही मिश्रण से आप एक अच्छी एक्सपोज इमेज खींच सकते हैं|

उदाहरण के तौर पर :-

 मान लीजिए बाहर तेज  दिन के समय में अब एक बच्चे की तस्वीर खींचना चाहते हैं |   आपने पहले से तय किया हुआ है कि आपको बैकग्राउंड ब्लर चाहिएतो आप को इस बात का पता होगा कि आपनंबर सबसे कम रहेंगे जितना भी आपका लेंस आप को अनुमति देता है |

क्योंकि दिन का समय है तो आप ISO  भी 100  पर रखेंगे | आपकी शटर स्पीड पहले से ही 1 /30 है ऐसा हम मन लेते है |    जब आप अपना कैमरा सब्जेक्ट की तरफ करते हैं  तो TTL मीटर में उसकी रीडिंग 0 से ज्यादा है |

इसका मतलब यह है की इमेज ओवर एक्सपोज्ड होगी | अब आप अपर्चर भी नहीं बढ़ाना चाहते और ISO  के साथ भी नहीं खिलवाड़ करना चाहते तो इस स्थिति में आपको शटर स्पीड धीरे धीरे बढ़ानी पड़ेगी तबतक जबतक TTL 0 पर रीडिंग न देने लगजाए |

इसी तरह से आप किसी भी स्थिति में तीनो ISO , शटर स्पीड और अपर्चर को इधर उधर करके एक सही और अछि एक्सपोज्ड इमेज को  खींच सकते है |

निचे दी गयी video से आपको और भी ज्यादा अछे से एक्सपोज़र ट्रायंगल के बारे में समझ आएगा |

Exposure triangle explained
Exposure triangle

तो यह था Exposure triangle in Hindi . मुझे पूरा विश्वास है की आप इससे बहुत कुछ सीखे होंगे |

यदि आपके किसी प्रकार के सवाल इस आर्टिकल के प्रति या फिर फोटोग्राफी से संभंधित  किसी चीज के लिए भी है तो आप मुझसे पूछ सकते है |

पूछने के लिए आप अपना सवाल कमेंट में लिख सकते है |

धन्यवाद् |

बेस्ट कैमरा 30000 तक का कोनसा अच्छा है जानने के लिए क्लिक करे |

Camera films with different ISOISO
Learn Photography

ISO in Photography क्या होता है ? Digital Photography में इसका क्या उपयोग है |

Camera films with different ISO
Camera films with different ISO

ISO in Photography क्या होता है ? Digital Photography में इसका क्या उपयोग है |

ISO भी शटर और अपर्चर की तरह फोटो को एक्सपोज़ करने में सहायता करता है |  लेकिन अक्सर बहुत से लोग ISO   को ठीक से समझ नहीं पाते |  इस आर्टिकल में मैं आपको ISO  को बेहद ही आसान भाषा में  सिखाने की कोशिश करूंगा |

ISO  सीखने से पहले यदि आप नहीं जानते कि अपर्चर या शटर किसे कहते है |

 यहां क्लिक करके जानें कि अपर्चर क्या होता है शटर स्पीड किसे कहते है |

Code for Embedding the info-graphic

<blockquote class="embedly-card"><h4><a href="https://www.photobasics.in/wp-content/uploads/2019/07/0-3-1024x1024.png">null</a></h4><p>null</p></blockquote>
<script async src="//cdn.embedly.com/widgets/platform.js" charset="UTF-8"></script>

 ISO को बेहद ही आसान भाषा में यूं कहा जा सकता है कि यह एक इंटरनेशनल आर्गेनाइजेशन ऑफ़ स्टैंडर्डज़ेशन है |   जो किसी भी चीज के एक वैल्यू डिसाइड करती है जो कि स्टैंडर्ड हो जाती है|   फोटोग्राफी में ISO   कैमरा सेंसर की लाइट के प्रति संवेदनशीलता को  मानकीकृत  करता है | यह उस समय की बात है जब फोटोग्राफी एक  रील के द्वारा की जाती थी  जिसे तकनीकी शब्दों में फिल्म भी कहा जाता है |

 उस समय में इसे फिल्म स्पीड कहा जाता था|   फिल्म की संवेदनशीलता को मानकीकृतकरना  बेहद आवश्यक था |   इसके जरिए  आप एक जैसे ISO  की फिल्म को किसी भी कैमरा में उपयोग कर सकते थे | 

 पहले के समय में विभिन्न विभिन्न  फिल्म स्पीड की  फिल्म आया करती थी लेकिन आज के डिजिटल समय में सभी की सभी फिल्म स्कोर एक स्टैंडर्ड ISO   का रूप देकर सेंसर में डिजिटलाइज कर दिया गया है|


Like my work ? Show your love to the website by buying us a Coffee :)

Buy me a coffeeBuy me a coffee

 जिसे आप कैमरा के जरिए कंट्रोल कर सकते हैं |  जैसे कि मैंने  लिखा  की ISO  फिल्म कि यह सेंसर की संवेदनशीलता को कहा जाता है आप जितना ISO  नंबर को बढ़ाएंगे  उतना ही कैमरा सेंसर लाइट के प्रति संवेदनशील होता जाएगा |

पहले के समय में मान लीजिए आप ISO 100   फिल्म का इस्तेमाल अपने कैमरा मे कर रहे हैं और आपको आवश्यकता है ज्यादा ISO   वाले फिल्म की उस समय आपको  पूरा रोल खत्म करने का इंतजार करना पड़ता था |

 लेकिन आज के समय में यह बहुत आसान है आप अपने कैमरे के बटन मात्र से ही इसका नंबर बढ़ा कम कर सकते हैं|

ISO  कहां इस्तेमाल होता है |

ISO का सही सवाल समझाने के लिए आपको एक उदाहरण देता हूं |

 मान लीजिए कि आप स्ट्रीट लैंप के नीचे किसी बच्चे का फोटोग्राफ खींच रहे हैं आपने अपना अपर्चर वैल्यू कम किया हुआ है और आपका शटर स्पीड भी इतना कम है जिससे की आपके कैमरा में मोशन बलर ना आए लेकिन आपकी इमेज अभी भी अछे से एक्सपोज्ड या ब्राइट नहीं है | इस स्थिति में आप ISO  को बढ़कर यानि कैमरा सेंसर की संवेदनशीलता को बढ़ाकर  एक अच्छी एक्सपोज्ड फोटो को  खींच सकते हैं |

ISO   सिर्फ   एक्स्पोज़र ही नहीं बदलता है|

 बल्कि ISO   को बढ़ाने से  आपकी फोटो के अंदर डिजिटल नॉइस  भी आ जाता है |  यह डिजिटल नॉइस  आपकी फोटो की क्वालिटी को गिरा देता है  फिर चाहे आपने कितनी अच्छी तस्वीर क्यों न खींची हो |

 हो सकता है कि आपके कैमरा की एलसीडी पर यह डिजिटल नॉइस ना दिखे लेकिन जब आप अपनी फोटो को प्रिंट करवा दोगे या फिर उसे कंप्यूटर स्क्रीन या बड़ी स्क्रीन पर देखोगे तो यह डिजिटल नॉइस आपको साफ-साफ दिखाई देगी |

 नीचे एक इमेज के जरिए मैं आपको दिखाना चाहता हूं कि डिजिटल  नाइस असल में दिखती कैसी है 

Digital noise comparison
Digital noise comparison

नीचे दी गई इमेज में ISO स्केल है जो की सभी कैमरा में एक जैसा ही होता है |

ISO Scale
ISO Scale

कम ISO जैसे की 50 पर सेंसर लाइट  के प्रति  कम संवेदनशील होगा और ज्यादा इसे  जैसे कि 6400 पर  सेंसर लाइट के प्रति ज्यादा संवेदनशील  होगा |

ISO को कैसे चुने |

अपने कैमरा में P  मोड को चुने इस मोड में आप केवल ISO  को ही चेंज कर पाएंगे |

बाकि दो सेटिंग्स अपर्चर और शटर स्पीड कैमरा खुद तय करलेगा |  इस मोड को प्रोग्राम मोड  भी कहा जाता है|

आप लोगों के लिए एक होमवर्क |

 अपने कैमरा में P  मोड का चयन करें | ISO  को 100 पर रखे  और  दिन के समय बाहर जाकर एक गिलास की तस्वीर खींचे |

 अब धीरे-धीरे ISO   का नंबर बढ़ाएं  जब तक कि आपके कैमरा में  आखिरी ISO  नंबर न आजाए एक एक करके तस्वीर लेते रहे |

 अब गिलास को अंदर लेकर आए  और अंदर भी  एकदम पहले के जैसे  फोटो खींचे  लेकिन इस बार शुरुआत  सबसे ज्यादा ISO   से करें |

 दोनों स्थिति में  आपके हिसाब से  जो एकदम सही एक्सपोज्स इमेज है उसे मेरे साथ शेयर करें |  आप यह फेसबुक ग्रुप Photography for Beginners पर शेयर कर सकते है |

अपने इस होमवर्क से क्या सीखा मुझे जरूर बताएं |  और यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे शेयर करना ना भूले |

 धन्यवाद |

Also Learn :-